Sunday, 02 ,October 2022
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

प्रति वर्ष अनुसार इस वर्ष भी जय मां अंबे मंदिर पर शानदार गरबो का हो रहा आयोजन | ग्राम करवड़ में पुलिस को मिली अवैध अंग्रेजी शराब | सुन चम्पा, सुन तारा, कोई जीता, कोई हारा | नवरात्रि की पंचमी तिथि को मातृशक्ति ने निकाली विशाल चुनरी यात्रा | नगर पालिका परिषद मे कांग्रेस ने लहराया परचम | नगर परिषद चुनाव नतीजों की हुई घोषणा | कुरैशी पवित्र उमराह यात्रा के लिए हुआ रवाना, ग्रामवासियो ने स्वागत कर दी विदाई | लेट्रिंग तक का रूपया खाने वाले भ्रष्टो के विरूद्ध होगी कार्रवाई या जनसेवा के नाम पर ढकोसला कर भ्रष्टाचार को देंगे बढ़ावा | आधे घन्टे की जोरदार बारिश ने किया नुकसान, जगह-जगह गिरे पेड़, नवरात्रि पंडालों में भी हुआ नुकसान | चिकित्सकों ने विद्यार्थियों को बांटी पेन व कॉपी | नवागत पुलिस अधीक्षक अगम जैन ने बुधवार को किया पदभार ग्रहण | आज रात होगी मतदाताओ रिझाने की अंतिम कोशिश, वार्डो के चुनाव में कोई नही पहुँच पा रहा अंतिम परिणाम तक | थाना प्रभारी सजंय रावत को मुख्यमंत्री की सभा की व्यवस्था संभालना पड़ा भारी | अंतिम दिन बड़ी संख्या में भागवत कथा श्रवण करने पहुँचे भक्त | शांति समिति की बैठक सम्पन्न | सहायक सचिव के पिता की जहर पीने से हुई मौत | चुनावी दौरे पर आए सीएम से पंचाल समाज ने लगाई गुहार | सीएम चौहान ने भाजपा पार्षद उम्मीदवारों के लिए चुनावी सभा को किया संबोधित | जिले में पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जन सेवा अभियान में हिस्सा लेने के बाद जिला मुख्यालय में की चुनावी सभा | चुनाव प्रचार के अंतिम दिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री जनसेवा शिविर में नहीं जाकर जनता से मांगेंगे माफी या अलीराजपुर की चुनावी सभा को करेंगे स्थगित...? |

है राम, कोरोना की दूसरी लहर का ऐसा कहर, एक दिन में दो दर्जन से अधिक चिताए जली एक ही मुक्तिधाम पर
15, Apr 2021 1 year ago

image

सभी शव मेडिकल कॉलेज से कोरोना प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार के लिए भेजे गए 

कम पड़ी मुक्तिधाम में जगह, बाहर ही करना पड़ा अंतिम संस्कार

माही की गूंज, रतलाम 

    है राम, ये क्या हो रहा है... दो दिन पहले ही तो कोविड-19 जिला प्रभारी मंत्री और प्रदेश सरकार के वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने दो दिन में रतलाम मेडिकल कॉलेज की व्यवस्था सुधारने का दावा किया था। जिसकी बुधवार को हवा निकल गई, कड़वा सच तो यह है। अब तक कोरोना का हा-हाकार मचा था, जो अब मौत के तांडव तक जा पहुंचा है। मेडिकल कॉलेज से कोरोना प्रोटोकाल के साथ रवाना हुए शव से आज भक्तन की बावड़ी का शमशान आबाद रहा। बुधवार को इस शमशान घाट पर एक साथ इतनी लाशें आई की अंतिम संस्कार के लिए प्लेटफार्म छोटा पड़ गया, जिसके बाद मुक्तिधाम के बाहर शवो का अंतिम संस्कार करना पड़ा। यह रतलाम का इतिहास बन गया कि, किसी मुक्तिधाम में एक दिन में  इतने अधिक शवों का अंतिम संस्कार हुआ। यह सभी शव कोरोना प्रोटोकाल के तहत मेडिकल कालेज से  लाए गए थे। मैदानी हक़ीक़त तो यही है कि, एक दिन में दो दर्जनो से अधिक मौते हुई, जिनका कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार हुआ। भक्तन की बावड़ी में एक दर्जन शवो का एक साथ अंतिम संस्कार करने की व्यवस्था है। जब शमशान पहुचकर मैदानी हकीकत देखी तो दिल दहलाने वाली तस्वीरे सामने आई। शमशान में 12 शव प्लेटफॉर्म पर, तो उतने ही नीचे और कुछ शमशान के बाहर अंतिम विदाई ले रहे थे। मृतकों के शव  लाये जाने  पर आज उनके परिजनों की भीड़ भी बड़ी संख्या में भक्तन की बावड़ी  स्थित मुक्तिधाम पर  लगी रही चिताएं आग की लपटों में धधक रही थी जिसे देख शर्मसार होती मानवता सवालों पर सवाल खड़ा कर रही थी। कौन है इन मौतों का जिम्मेदार...? क्या कारण रहा मौत का...? आखिर कब तक सिस्टम कित्रिम आक्सीजन पर मौतों पर मौत का खेल खेलता रहेगा और जिम्मेदार मौन होकर दीवारों पर तस्वीरे लगाते रहेंगे...? उन परिवारों का क्या होगा जिनके परिजनों का साया वे-वक्त उठ गया...? कौन जिम्मेदार सच्चाई बयां करेगा...? या झूठे आंकड़ो की बैसाखी पर मौतों का तांडव चलता रहेगा...?




माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |