Tuesday, 16 ,April 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

थांदला माटी के संत 108 श्रीपुण्यसागरजी महाराज 19 वर्षों बाद करेंगें थांदला में मंगल प्रवेश, संघजनों में अपार उत्साह | ईद-उल-फितर की नमाज में उठे सैकड़ों हाथ, देश में अमन चैन, एकता व खुशहाली की मांगी दुआएं | ईदगाह से नमाज अदा कर मनाया ईद उल फितर का त्योहार, दिनभर चला दावतों का दौर | आबकारी विभाग द्वारा अवैध मदिरा के विक्रय के विरुद्ध निरंतर कार्यवाही जारी | श्री सिद्धेश्वर रामायण मंडल ने किया गांव का नाम रोशन | नागरिक सहकारी बैंक झाबुआ के भ्रत्य को अर्पित की श्रद्धांजलि | चुनरी यात्रा का जगह-जगह हुआ स्वागत | रक्तदान कैंप का हुआ आयोजन | रुपए लेने वाले दो व्यक्तियों का मंदिर में प्रवेश प्रतिबंधित, पुलिस कॉन्स्टेबल निलंबित | बस में मिली 1 करोड़ 28 लाख रुपए की नगदी एवं 22 किलो 365 ग्राम चांदी की सिल्ली | मानवता फिर हुई शर्मसार | आई गणगौर सखी देवा झालरिया आस्था का पर्व | दोहरे हत्याकाण्ड का में फरार सभी 14 आरोपियो की संपत्ति कुर्की हेतु की जाएगी कार्यवाही | नवीन शिक्षण सत्र के प्रथम दिन विद्यार्थियों को तिलक लगाकर किया स्वागत | श्रीसंघ ने कान गुरुदेव के उपकारों का याद करते हुए दी श्रद्धांजलि | बड़े हर्ष के साथ मनाई शीतला सप्तमी | रतलाम-झाबुआ संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार कांतिलाल भूरिया का किया स्वागत | धूमधाम से मनाया ईस्टर पर्व | शीतला सप्तमी मनाने के लिए प्रजापति समाज ने नगर में निकाला विशाल वरघोड़ा | पुलिस विभाग ने लाखों की अवैध शराब वाहन सहित की जप्त, वाहन चालक पुलिस को देख वाहन छोड़ भाग निकला |

है राम, कोरोना की दूसरी लहर का ऐसा कहर, एक दिन में दो दर्जन से अधिक चिताए जली एक ही मुक्तिधाम पर
15, Apr 2021 3 years ago

image

सभी शव मेडिकल कॉलेज से कोरोना प्रोटोकाल के तहत अंतिम संस्कार के लिए भेजे गए 

कम पड़ी मुक्तिधाम में जगह, बाहर ही करना पड़ा अंतिम संस्कार

माही की गूंज, रतलाम 

    है राम, ये क्या हो रहा है... दो दिन पहले ही तो कोविड-19 जिला प्रभारी मंत्री और प्रदेश सरकार के वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने दो दिन में रतलाम मेडिकल कॉलेज की व्यवस्था सुधारने का दावा किया था। जिसकी बुधवार को हवा निकल गई, कड़वा सच तो यह है। अब तक कोरोना का हा-हाकार मचा था, जो अब मौत के तांडव तक जा पहुंचा है। मेडिकल कॉलेज से कोरोना प्रोटोकाल के साथ रवाना हुए शव से आज भक्तन की बावड़ी का शमशान आबाद रहा। बुधवार को इस शमशान घाट पर एक साथ इतनी लाशें आई की अंतिम संस्कार के लिए प्लेटफार्म छोटा पड़ गया, जिसके बाद मुक्तिधाम के बाहर शवो का अंतिम संस्कार करना पड़ा। यह रतलाम का इतिहास बन गया कि, किसी मुक्तिधाम में एक दिन में  इतने अधिक शवों का अंतिम संस्कार हुआ। यह सभी शव कोरोना प्रोटोकाल के तहत मेडिकल कालेज से  लाए गए थे। मैदानी हक़ीक़त तो यही है कि, एक दिन में दो दर्जनो से अधिक मौते हुई, जिनका कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार हुआ। भक्तन की बावड़ी में एक दर्जन शवो का एक साथ अंतिम संस्कार करने की व्यवस्था है। जब शमशान पहुचकर मैदानी हकीकत देखी तो दिल दहलाने वाली तस्वीरे सामने आई। शमशान में 12 शव प्लेटफॉर्म पर, तो उतने ही नीचे और कुछ शमशान के बाहर अंतिम विदाई ले रहे थे। मृतकों के शव  लाये जाने  पर आज उनके परिजनों की भीड़ भी बड़ी संख्या में भक्तन की बावड़ी  स्थित मुक्तिधाम पर  लगी रही चिताएं आग की लपटों में धधक रही थी जिसे देख शर्मसार होती मानवता सवालों पर सवाल खड़ा कर रही थी। कौन है इन मौतों का जिम्मेदार...? क्या कारण रहा मौत का...? आखिर कब तक सिस्टम कित्रिम आक्सीजन पर मौतों पर मौत का खेल खेलता रहेगा और जिम्मेदार मौन होकर दीवारों पर तस्वीरे लगाते रहेंगे...? उन परिवारों का क्या होगा जिनके परिजनों का साया वे-वक्त उठ गया...? कौन जिम्मेदार सच्चाई बयां करेगा...? या झूठे आंकड़ो की बैसाखी पर मौतों का तांडव चलता रहेगा...?




माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |