Friday, 19 ,July 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

20 माह बाद भी अपने पुनरुद्धार की बाट जोह रही है सड़क | जिला पत्रकार संघ की जिला कार्यकारिणी का हुआ स्नेह मिलन समारोह | पुलिस ने 8 घण्टे के भीतर किया महिला की निर्मम हत्या का खुलासा | शिप्रा नदी में हाथ-पैर और मुँह बंधी लाश मिली | पांच मोटरसाइकिल के साथ चोर गिरफ्तार | जन्मप्रमाण पत्र के अभाव में कई बच्चो का भविष्य अंधकार में | सुंदराबाद में होगा महिला एवं बाल हितेषी पंचायत का गठन | अणु पब्लिक स्कूल में अलंकरण समारोह की धूम | अमरनाथ यात्रा के लिए रवाना हुए तीन युवा | कृषि विभाग और पुलिस, सोयाबीन के वाहन को लेकर आमने-सामने | 'एक पेड़ मां के नाम' अभियान को लेकर किए पौधरोपण | एक पेड़ मां के नाम अभियान के तहत पुलिस विभाग ने किया पौधरोपण | ठंड-गर्मी का मौसम निकला अब कीचड़ में बैठेंगे सब्जी विक्रेता, सड़क किनारे बैठकर दुर्घटना को दे रहे न्योता | धरती हमारी माँ है, पौध रोपण कर सभी करे इसकी सेवा- न्यायाधीश श्री दिवाकर | धरती आसमां को जयकारों से गुंजायमान करते हुए अणुवत्स श्री संयतमुनिजी ठाणा 4 का थांदला में हुआ भव्य मंगल प्रवेश | पुलिस ने 24 घंटे के अंदर पकड़ा मोबाईल चोर | समरथमल मांडोत मंडी अध्यक्ष नियुक्त | जनपद पंचायत मुख्यालय पर हुआ सम्पूर्णता अभियान का शुभारंभ | आगामी त्यौहार मोहर्रम के सबंध में हुई एसडीएम कार्यालय में आयोजित हुई बैठक | सफल हुई अंतिम आराधन, कमलाबाई पीचा का संथारा सिझा |

गर्मियों में प्यासे कंठ को तर करने हेतु राज्यसभा सांसद डॉ. सोलंकी की पहल
08, May 2023 1 year ago

image

माही की गूंज, बड़वानी।

          राज्यसभा सांसद डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी ने रविवार अपने निज निवास बड़वानी पर बेजुबान पक्षियों के लिए जल-पात्र रखें। सांसद डॉ. सोलंकी ने बताया कि, गर्मियों में प्यासे कंठ को तर करने के लिए प्याऊ तो कई लोग लगाते है,लेकिन मूक पक्षियों की कोई सुध नही लेता। प्राकृतिक वातावरण का संतुलन बनाये रखने हेतु वन्यजीवों का होना भी अति आवश्यक है,इसलिए बेजुबान पक्षियों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है, धर्म है।

          इस दौरान राज्यसभा सांसद डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी ने आव्हान किया कि गर्मी धीरे-धीरे बढ़ रही है। हर वर्ष ना जाने कितने ही बेजुबान पंछी इस भयानक गर्मी में पानी ना मिलने से दम तोड़ देते है। यदि आप अपने घर के किसी टूटे-फूटे बर्तन में पक्षियों लिए पानी और अनाज रखोगे तो इस भयानक गर्मी में भोजन और पानी की तलाश में पंछियों को भटकना नही पड़ेगा याद रखें कोई भी पुण्य कार्य कभी भी व्यर्थ नही जाता पक्षियों का यू प्यासा रहना हमारे लिए अशुभ है। इस संसार के लिए भी और समूचे पर्यावरण के लिए भी इनकी पुकार को सुने और इनके लिए जल पात्र अपने घर की छतों पर रखे जिससे यह प्यासे ना रहे इन्हें जीवन मिले संरक्षण मिले क्योंकि पंछी पर्यावरण को जीवंतता देते है यह चहचाहते है तो जिंदगियां खिलखिला उठती है प्रकति के बदलाव का सूचक यह जीव सभी मायने में हमे जीवन को जीना सिखाते है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |