Tuesday, 16 ,April 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

थांदला माटी के संत 108 श्रीपुण्यसागरजी महाराज 19 वर्षों बाद करेंगें थांदला में मंगल प्रवेश, संघजनों में अपार उत्साह | ईद-उल-फितर की नमाज में उठे सैकड़ों हाथ, देश में अमन चैन, एकता व खुशहाली की मांगी दुआएं | ईदगाह से नमाज अदा कर मनाया ईद उल फितर का त्योहार, दिनभर चला दावतों का दौर | आबकारी विभाग द्वारा अवैध मदिरा के विक्रय के विरुद्ध निरंतर कार्यवाही जारी | श्री सिद्धेश्वर रामायण मंडल ने किया गांव का नाम रोशन | नागरिक सहकारी बैंक झाबुआ के भ्रत्य को अर्पित की श्रद्धांजलि | चुनरी यात्रा का जगह-जगह हुआ स्वागत | रक्तदान कैंप का हुआ आयोजन | रुपए लेने वाले दो व्यक्तियों का मंदिर में प्रवेश प्रतिबंधित, पुलिस कॉन्स्टेबल निलंबित | बस में मिली 1 करोड़ 28 लाख रुपए की नगदी एवं 22 किलो 365 ग्राम चांदी की सिल्ली | मानवता फिर हुई शर्मसार | आई गणगौर सखी देवा झालरिया आस्था का पर्व | दोहरे हत्याकाण्ड का में फरार सभी 14 आरोपियो की संपत्ति कुर्की हेतु की जाएगी कार्यवाही | नवीन शिक्षण सत्र के प्रथम दिन विद्यार्थियों को तिलक लगाकर किया स्वागत | श्रीसंघ ने कान गुरुदेव के उपकारों का याद करते हुए दी श्रद्धांजलि | बड़े हर्ष के साथ मनाई शीतला सप्तमी | रतलाम-झाबुआ संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस पार्टी के उम्मीदवार कांतिलाल भूरिया का किया स्वागत | धूमधाम से मनाया ईस्टर पर्व | शीतला सप्तमी मनाने के लिए प्रजापति समाज ने नगर में निकाला विशाल वरघोड़ा | पुलिस विभाग ने लाखों की अवैध शराब वाहन सहित की जप्त, वाहन चालक पुलिस को देख वाहन छोड़ भाग निकला |

गर्मियों में प्यासे कंठ को तर करने हेतु राज्यसभा सांसद डॉ. सोलंकी की पहल
08, May 2023 11 months ago

image

माही की गूंज, बड़वानी।

          राज्यसभा सांसद डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी ने रविवार अपने निज निवास बड़वानी पर बेजुबान पक्षियों के लिए जल-पात्र रखें। सांसद डॉ. सोलंकी ने बताया कि, गर्मियों में प्यासे कंठ को तर करने के लिए प्याऊ तो कई लोग लगाते है,लेकिन मूक पक्षियों की कोई सुध नही लेता। प्राकृतिक वातावरण का संतुलन बनाये रखने हेतु वन्यजीवों का होना भी अति आवश्यक है,इसलिए बेजुबान पक्षियों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है, धर्म है।

          इस दौरान राज्यसभा सांसद डॉ. सुमेर सिंह सोलंकी ने आव्हान किया कि गर्मी धीरे-धीरे बढ़ रही है। हर वर्ष ना जाने कितने ही बेजुबान पंछी इस भयानक गर्मी में पानी ना मिलने से दम तोड़ देते है। यदि आप अपने घर के किसी टूटे-फूटे बर्तन में पक्षियों लिए पानी और अनाज रखोगे तो इस भयानक गर्मी में भोजन और पानी की तलाश में पंछियों को भटकना नही पड़ेगा याद रखें कोई भी पुण्य कार्य कभी भी व्यर्थ नही जाता पक्षियों का यू प्यासा रहना हमारे लिए अशुभ है। इस संसार के लिए भी और समूचे पर्यावरण के लिए भी इनकी पुकार को सुने और इनके लिए जल पात्र अपने घर की छतों पर रखे जिससे यह प्यासे ना रहे इन्हें जीवन मिले संरक्षण मिले क्योंकि पंछी पर्यावरण को जीवंतता देते है यह चहचाहते है तो जिंदगियां खिलखिला उठती है प्रकति के बदलाव का सूचक यह जीव सभी मायने में हमे जीवन को जीना सिखाते है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |