Wednesday, 22 ,May 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

जिन शासन का मनाया 2580वां स्थापना दिवस | ग्रामीण अंचलों में बनी प्रधानमंत्री ग्राम सड़क पर बेखोफ दौड़ रहे ओवरलोड डम्फर, जिम्मेदार नहीं कर रहे कोई कार्रवाई | वरिष्ठ नागरिक पेंशनर्स एसोसिएशन की बैठक का हुआ आयोजन | सांसद की माताजी का निधन, भाजपा में शोक की लहर | श्रीमद् भागवत कथा के चौथे दिन भजनों पर थिरके भक्त, बही भागवत गंगा | लोकसभा चुनाव जोबट विधानसभा क्षेत्र के ग्राम आम्बुआ में शांति पूर्वक संपन्न | चौथे चरण का मतदान सम्पन्न, सैलाना विधानसभा में सबसे ज्यादा मतदान | ग्रीष्मकालीन जैन आवासीय धार्मिक संस्कार शिविर का आयोजन 14 से 19 को पेटलावद में | गुरुदेव की निश्रा में 300 वर्षीतप आराधकों ने किए पारणें | सरपंच पति के साथ 6 आरोपीयो के विरुद्ध 4 व्यक्तियों की हत्या करने का मामला हुआ दर्ज | कांग्रेस का हूं कांग्रेस का रहूंगा कहने वाले सरपंच साहब भाजपा की भेंट चढ़े, उपसरपंच ने भी थामा भाजपा का दामन | पुलिस ने शांतिपूर्ण मतदान के लिए निकाला फ्लैग मार्च | पुलिस ने निकाला फ्लेग मार्च | 13 मई को संपन्न होने जा रहे चुनाव में शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था हेतु सेना का फ्लैग मार्च | एक बार फिर विक्रांत भूरिया ने प्रेसवार्ता कर उधेड़ी प्रदेश वनमंत्री नागरसिंह व भाजपा लोकसभा प्रत्याशी अनिता चौहान की बखिया | निष्पक्ष रूप से चुनाव करवाने का दावा करने वाली प्रशासन ध्यान दें शराब दुकान पर होने वाली भीड़ पर | पहला चुनाव बनाम अंतिम चुनाव, सहानुभूति लहर या महिला सशक्तिकरण...? | देश में राजनीतिक दलों की स्थिति मतलब हमाम में सब नंगे | गुजरात मॉडल की घोषणा टाय-टाय फिस्स | राजू के असल हत्यारे आखिर कौन...? पुलिस पूरे मामले का करेगी खुलासा या फिर अधर में रखेगी मामला... |

कथा सुनने से धन नहीं आनंद मिलता है- पंडित शिवगुरु जी
20, Sep 2022 1 year ago

image

माही की गूंज, आम्बुआ।

         भागवत की कथा सुनने आप जितने कदम चलोगे उतने यज्ञ का पुण्य तुम्हें मिलता है। इसलिए जहां कथा हो वहां जाना चाहिए कथा में आप जितने घंटे बैठते हैं, उसका थोड़ा समय भी कथा दिल में सजाएंगे तो उद्धार हो जाता है। कथा सुनने से धन नहीं मिलता है आनंद मिलता है।

          उक्त विचार श्रीमद् भागवत कथा के  दौरान आम्बुआ में सांवरिया धाम में व्यासपीठ पर विराजमान भागवत कथा वाचक पंडित शिव गुरु जी शर्मा उन्हेल (उज्जैन) वाले ने व्यक्त किए। उन्होंने बताया कि, धन तो कोई भी कमा लेता है मगर धन से सुख, नींद, चैन, संतोष आदि नहीं खरीदा जा सकता है। धन कितना भी हो यदि नींद नहीं आती हो तो नींद नहीं खरीद सकते। धन से आत्मिक सुख नहीं मिलता। वह सुख कथा सुनने में ही मिलता है। 

          पंडित श्री शर्मा जी ने आज भागवत कथा के द्वितीय दिवस भागवत कथा के अवतरण की कथा सुनाई कि, भागवत कथा वेदव्यास जी ने क्यों लिखी। उन्होंने बताया कि, कलयुग आने वाला था जिसमें मानव का उद्धार कैसे हो इस बाबत भागवत कथा लिखी गई। वेदव्यास जी ने वेदों की रचना की तथा वेदों को चार भागों में बांटा तथा 17 पुराणों की रचना करने के बाद भी वेद व्यास जी को संतोष नहीं हुआ, तब नारद जी ने उनसे पूछा कि आप बेचैन क्यों है आप भागवत पुराण की रचना करो भागवत पुराण वह है जिसका वर्णन शेषनाग अपने हजारों फनों से नहीं कर सकते भागवत कथा कोई पोथी नहीं है वह साक्षात भगवान कृष्ण का रूप है।


           आज कथा में पंडित जी शर्मा ने नारद के पूर्व जन्म की कथा जिसमें वह दासी पुत्र थे तथा संतों की सेवा करते रहे, दूसरे जन्म में वह नारद ऋषि के रूप में अवतरित हुए। आगे की कथा में उन्होंने राजा परीक्षित की कथा सुनाते हुए बताया कि, राजा परीक्षित शिकार हेतु जंगल में जाते हैं तथा  प्यास लगने पर एक आश्रम में जाते हैं। जहां पर ऋषि ध्यान में बैठे होने से राजा का सत्कार नहीं कर सके उन्हें जल प्रदान नहीं कर सके। तब राजा ने एक मरा हुआ सर्प उनके गले में डाल दिया। जब ऋषि पुत्र आए तो उन्होंने यह देखकर राजा को श्राप दे दिया कि जिसने सर्प डाला है उसे 7 दिनों के अंदर तक्षक नाग डसेगा। राजा परीक्षित ने तब अपने उद्धार हेतु सन्तों से विचार-विमर्श किया उसी समय उन्हें नारद जी ने भागवत कथा सुनने का सुझाव दिया। तब सुखदेव जी महाराज द्वारा उन्हें 7 दिनों तक भागवत कथा सुनाई तथा उससे राजा परीक्षित का उद्धार हुआ। कथा में जय विजय की कथा, भगवान का बराह अवतार, सती चरित्र के बाद भगवान भोलेनाथ की कथा, शिव-पार्वती के विवाह की कथा के दौरान शिव बारात के समय पर भजन पर श्रोता झूम उठे। दूसरे दिवस की कथा विश्राम के पूर्व गौ माता को हो रही लम्पी बीमारी का उल्लेख करते हुए गौ माता की सेवा करने का आव्हान किया।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |