Wednesday, 28 ,September 2022
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

आज रात होगी मतदाताओ रिझाने की अंतिम कोशिश, वार्डो के चुनाव में कोई नही पहुँच पा रहा अंतिम परिणाम तक | थाना प्रभारी सजंय रावत को मुख्यमंत्री की सभा की व्यवस्था संभालना पड़ा भारी | अंतिम दिन बड़ी संख्या में भागवत कथा श्रवण करने पहुँचे भक्त | शांति समिति की बैठक सम्पन्न | सहायक सचिव के पिता की जहर पीने से हुई मौत | चुनावी दौरे पर आए सीएम से पंचाल समाज ने लगाई गुहार | सीएम चौहान ने भाजपा पार्षद उम्मीदवारों के लिए चुनावी सभा को किया संबोधित | जिले में पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जन सेवा अभियान में हिस्सा लेने के बाद जिला मुख्यालय में की चुनावी सभा | चुनाव प्रचार के अंतिम दिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री जनसेवा शिविर में नहीं जाकर जनता से मांगेंगे माफी या अलीराजपुर की चुनावी सभा को करेंगे स्थगित...? | कैलाश विजयवर्गीय ने भाजपा के पक्ष में किया रोड़ शो | एमडीएच स्कूल में पूरे सत्र बच्चों को नही मिल रहे कॉमर्स के शिक्षक, बच्चो की शिक्षा हो रही प्रभावित | हॉइ वॉल्टेज मुकाबला वार्ड नम्बर एक मे माहौल बदलने उतरी भाजपा | अध्यक्ष पद के लिए महत्वपूर्ण वार्ड क्र. 1, तीन पार्टी के उम्मीदवार तो एक निर्दलीय मैदान में | जिस भगवान ने हमें बेहिसाब दिया उसी को हम माला की गिनती से भजते हैं- पंडित शिव गुरु शर्मा | करप्शन पर चीन की सख्ती: पूर्व न्याय मंत्री को मौत की सजा | नगर में चाहुमुँखी विकास एवं स्वच्छता के साथ नपा को आदर्ष बनाने का वादा | 24 सितम्बर को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान अलीराजपुर व बुराहनपुर जिले में चुनावी सभाओं को करेंगे सम्बोधित | मां बच्चे की पहली गुरु होती है वह जैसा सिखाती है वैसा वह सीखता है- पंडित शिव गुरु शर्मा | कथा सुनने से धन नहीं आनंद मिलता है- पंडित शिवगुरु जी | कौन असली, कौन नकली...? |

अमानत में खयानत करने वालो रीडर को निलम्बित कर धोखाधड़ी करने वाले खातेधारक के विरुद्ध एफआईआर के आदेश के साथ कलेक्टर ने गलत आदेश पारित करने वाले निर्वतमान एसडीएम के विरुद्ध कार्यवाही हेतु लिखा शासन को पत्र
05, Sep 2020 2 years ago

image

भ्रष्ट रीडर मालवीय के विरुद्ध हुई कार्यवाही

माही की गूंज, बड़वानी  

    नवागत कलेक्टर शिवराज सिंह वर्मा ने अमानत में खयानत कर भू-माफिया बनने वाले एसडीएम के तात्कालीन रीडर बाबुलाल मालवीय को निलम्बित कर दिया है, वही रीडर सहित अन्य तीन दोषियों शरदचन्द्र दतात्रय, प्रितेश शरदचन्द्र, श्रीमती कलाबाई कलाल पर एफआईआर कराने के भी निर्देश दिए है। 

ज्ञातव्य है कि, प्रदेश के मुख्यमंत्री ने परसो हुई  वीडियो कांफ्रेसिंग के दौरान ही भू-माफियाओं व अनैतिक कार्य करने वालो पर कठौर कार्यवाही करने के निर्देश सभी कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक को दिए थे। कलेक्टर की इस कार्यवाही को, लोग मुख्यमंत्री के निर्देश से जोड़कर देख रहे है। 

कलेक्टर श्री वर्मा ने बताया कि, इंदिरा सागर परियोजना (नहर) के लिए कस्बा बड़वानी में 19 खातेदारों की निजी भूमि का अवार्ड 30 नवम्बर 2012 को पारित किया गया था, इस पारित अवार्ड के विरूद्ध प्रितेश पिता शरदचन्द्र रावत एवं श्रीमती कलाबाई पिता स्व.चम्पालाल कलाल ने जिला सत्र न्यायाधीश बड़वानी के समक्ष रेफरेंस प्रकरण प्रस्तुत किया था। जिसमें माननीय न्यायालय ने 16 दिसम्बर 2019 को पारित अपने आदेश में अवार्ड राशि 34 लाख 45 हज़ार 912 रूपए बढ़ाकर प्रितेश रावत को  6 करोड़ 70 लाख 97 हज़ार 857 रूपए एवं श्रीमती कलाबाई कलाल को 1 करोड़ 92 लाख 66 हज़ार 232  रूपए पृथक-पृथक मुआवजा प्रदान करने का आदेश दिया था। 

   चूंकि पारित अवार्ड एवं न्यायालय द्वारा रेफरेंस प्रकरण की राशि में अत्यधिक भिन्नता होने के कारण कलेक्टर ने जब इस प्रकरण का परीक्षण कराया तो ज्ञात हुआ कि, एसडीएम बड़वानी के यहाॅ पदस्थ रीडर बाबुलाल मालवीय ने एसडीएम के समक्ष प्रकरण में पूर्ण जानकारी प्रस्तुत न करते हुए तथ्यो को छुपाकर, खातेदारो से मिली-भगत कर षडयंत्र पूर्वक भूमि का डायवर्सन कराकर अपनी बहन श्रीमती कलाबाई कलाल, शरदचन्द्र रावत, प्रितेश रावत को लाभ पहुंचाने हेतु कूटरचित किया है। जिसके कारण न्यायालय द्वारा इनती राशि का मुआवजा आदेश पारित किया गया। 

इस प्रकरण को रीडर ने परत - दर परत इस तरह दिया अंजाम 

इंदिरा सागर परियोजना की चतुर्थ चरण की मुख्य नहर के लिए दशहरा मैदान बड़वानी के आगे कन्या महाविद्यालय के सामने स्थित 16.941 हेक्टर भूमि की अधिसूचना 26 अक्टूबर 2010 को जारी गई थी । 

शरदचन्द्र रावत ने कस्बा बड़वानी स्थित 13.60 कृषि भूमि मेसे पैकि रकबा 6 एकड़ का व्यवसायिक प्रायोजन (मेरिज गार्डन) हेतु डायवर्सन कराने का आवेदन अनुविभागीय अधिकारी राजस्व बड़वानी के न्यायालय में 13 दिसम्बर 2010 को प्रस्तुत किया था । 

अनुविभागीय अधिकारी राजस्व बड़वानी के यहाॅ प्रस्तुत इस आवेदन में मात्र खसरा, बी-1 नक्क्षा की नकल ही प्रस्तुत की गई थी। कोई साइट प्लान प्रस्तुत नही किया गया था, इस प्रकरण में रीडर को उदघोषणा जारी कर संबंधित विभागो से अभिमत प्राप्त करना था, जो नही किया गया। 

रीडर ने व्यपवर्तन के इस प्रकरण में उसी दिन 13 दिसम्बर 2010 को अधीक्षक भू-अभिलेख को पत्र जारी कर जांच एवं निर्धारण मांगा था, जिस पर अधीक्षक भू-अभिलेख ने 28 अक्टूबर 2010 को जांच रिपोर्ट प्रस्तुत किया, जिस आधार पर उक्त प्रश्नाधीन भूमि का प्रिमियम 72 हज़ार 810 रुपए तथा वार्षिक पुनःनिर्धारण 30 हज़ार 580 रूपए का आदेश 29 अक्टूबर 2010 को पारित किया गया । किन्तु इस राशि को संबंधितो द्वारा जमा नहीं करवाया गया, इस प्रकार शासकीय राजस्व की हानि हुई । 

व्यपवर्तन के इस प्रकरण में 28 अक्टूबर 2010 को शरदचन्द्र रावत ने 1.20 एकड़ भूमि श्रीमती कलाबाई ( रीडर श्री बाबुलाल मालवीय की सगी बहन ) को अंसिचिंत भूमि के रूप में रजिस्ट्री कराई गई, जबकि भूमि सिंचित थी,  इस प्रकार यहाॅ स्टाम्प डयूटी की चोरी की गई । 

मालवीय की बहन को क्रय की गई भूमि का नामांतरण एवं बटवारा की कार्यवाही तहसीलदार से कराई जाना थी, परन्तु वाले-वाले इस प्रकरण में नामांतरण, बटवारा बिना किसी प्रक्रिया के अधीक्षक भू-अभिलेख से 10 नवम्बर 2010 को कराया गया। जबकि नामांतरण, बटवारा की अधिकारिता, अधीक्षक भू-अभिलेख को नही थी। दोषियो का यह कृत्य स्टाम्प डयूटी की चोरी एवं धोखाधड़ी प्रदर्शित करती है। 

व्यपवर्तन भूमि में मैरिज गार्डन की अनुमति प्राप्त करने हेतु 30 अक्टूबर 2010 को प्रार्थना पत्र प्रस्तुत हुआ, बिना किसी इस्तेहार के उसी दिन नजूल अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कर दिया गया। जबकि वर्तमान में जांच कराने पर भूमि के 1.416 रकबा पर नहर निर्माण तथा 0.162 हेक्टर भूमि पड़त एवं एक कच्चा मकान पाया गया है, वही 0.405 हेक्टर में कपास फसल लगी है। 

व्यपर्वन प्रकरण में बाबुलाल मालवीय को संबंधित विभागो को भेजकर उनसे अभिमत प्राप्त करते हुए सार्वजनिक उदघोषणा जारी कर व्यपवर्तन की कार्यवाही की जानी थी। परन्तु भ्रष्ट मालवीय ने अनियमित तरीके से पक्षकारों से मिलकर शासन के साथ धोखाधड़ी कर कृषि भूमि को कथित मेरीज  गार्डन के रूप में व्यपवर्तित कराकर अधिग्रहित की गई भूमि के पारित अवार्ड राशि के विरूद्ध न्यायालय में रेफरेंस प्रकरण प्रस्तुत कराकर स्वयं एवं पक्षकारों को षडयंत्रपूर्वक लाभान्वित करवाया गया है। 

   इस पर कलेक्टर ने भू-अर्जन अधिकारी इंदिरा सागर परियोजना नहर को निर्देशित किया है कि, वे इस कृत्य के लिये रीडर बाबुलाल मालवीय, खातेदार शरदचन्द्र रावत, प्रितेश रावत, श्रीमती कलाबाई कलाल के विरूद्ध तत्काल एफआईआर दर्ज करवाए, साथ ही कलेक्टर ने उक्त आदेश करने वाले सेवा निवृत्त एसडीओ राजस्व तथा अधीक्षक भू-अभिलेख के विरूद्ध भी कार्यवाही करने हेतु शासन को पत्र भेजा है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |