Friday, 23 ,February 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

नरेन्द्र कुमार का निधन | ग्राम सभा मे पेसा एक्ट की दी जानकारी | वाहन एवं लाखों की अवैध शराब के साथ एक आरोपी गिरफ्तार | बिशप के प्रथम आगमन पर भव्य स्वागत | खरीफ में पैदा होने वाली फसले अब रबी में भी | दुकान नीलामी को लेकर दर्ज करवाई गई आपत्ति, हाईकोर्ट के आदेश की अनदेखी का आरोप | कांग्रेसी नेता ने करंट से पीड़ित परिजनों को दी सहायता राशि | मेनिंगोकोकल वैक्सीन की हुई शुरुआत, बच्चों को दी वैक्सीन की खुराक | निःशुल्क मच्छरदानी का किया वितरण | राज्यपाल की उपस्थिति में आयोजित हुआ स्वास्थ्य शिविर | 12वीं बोर्ड परीक्षा में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले 7 हजार 800 विद्यार्थियों को मिली स्कूटी | सिकलीगर परिवारों के लिए स्वरोजगार प्रशिक्षण | खाद्य पदार्थों में मिलावट की रोकथाम के लिए मुख्य सचिव ने ली बैठक | अमानक स्तर का घी तैयार करने वाली फर्म के संचालक के विरुद्ध एफआईआर दर्ज | विद्या से धारित मां सरस्वती देवी ही समस्त सद्गुणों की स्त्रोत- प्राचार्य शरद क्षीरसागर | शांतिलाल श्रीमाल के निधन के बाद परिवार वालों ने नेत्रदान का लिया साहसी निर्णय | भारत भ्रमण पर निकले युवा का किया स्वागत | संदिग्ध परिस्थितियों में मिले शव के बाद हत्या की आशंका को लेकर ग्रामीण थाने पर पहुँचे | तीस वर्षिय युवक की लाश कूप में मिलने से क्षैत्र में फैली सनसनी | 2013 से लेकर 2018 तक विधायक रहे शांतिलाल बिलवाल का निधन |

तेंदुए ने किया बकरी का शिकार
01, Dec 2023 2 months ago

image

माही की गूंज, अमझेरा।

         गुरूवार की शाम को तेंदुए ने बकरी का शिकार कर उसे मार दिया। नगर के थाना पीछे मोहल्ले में रहने वाले सुभाष पुत्र राधु बख्तावर जलाशय के आस-पास अपनी बकरीयॉ चरा रहा था तभी तेंदुए ने मौका देखकर बकरी पर हमला कर दिया। हांलाकी सुभाष व उसके अन्य साथीदार काहरू पुत्र केकु व रालू पुत्र केकु ने शोर मचाकर किसी तरह से बकरी को छुड़ा लिया लेकिन बकरी को बचाया नहीं जा सका। सुचना मिलने पर शुक्रवार को वन विभाग अमझेरा वन परिक्षेत्र सहायक दयाराम वर्मा, बीड गार्ड निर्मल डावर चौकीदार रमेश मौके पर पहुंचे तथा ग्रामीणों की उपस्थिति में मौका पंचनामा बनाया। जिसमें पदचिन्ह के आधार पर बताया गया कि बकरी का शिकार तेंदुए के द्वारा ही किया गया। परिक्षेत्र सहायक दयाराम वर्मा के द्वारा ग्रामीणों को बताया गया कि, वे जंगलो में ज्यादा अंदर तक बकरीयों का चराने के लिए नही जाए एवं उन्हे सावधानी बरतने की बात कही गई। उल्लेखनिय है कि, बिते वर्षो में अमझेरा से सटे जंगलों में तेंदुए के द्वारा पशुओं के साथ ही मनुष्यों पर भी जानलेवा हमले किए गए है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |