Wednesday, 28 ,September 2022
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

आज रात होगी मतदाताओ रिझाने की अंतिम कोशिश, वार्डो के चुनाव में कोई नही पहुँच पा रहा अंतिम परिणाम तक | थाना प्रभारी सजंय रावत को मुख्यमंत्री की सभा की व्यवस्था संभालना पड़ा भारी | अंतिम दिन बड़ी संख्या में भागवत कथा श्रवण करने पहुँचे भक्त | शांति समिति की बैठक सम्पन्न | सहायक सचिव के पिता की जहर पीने से हुई मौत | चुनावी दौरे पर आए सीएम से पंचाल समाज ने लगाई गुहार | सीएम चौहान ने भाजपा पार्षद उम्मीदवारों के लिए चुनावी सभा को किया संबोधित | जिले में पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जन सेवा अभियान में हिस्सा लेने के बाद जिला मुख्यालय में की चुनावी सभा | चुनाव प्रचार के अंतिम दिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री जनसेवा शिविर में नहीं जाकर जनता से मांगेंगे माफी या अलीराजपुर की चुनावी सभा को करेंगे स्थगित...? | कैलाश विजयवर्गीय ने भाजपा के पक्ष में किया रोड़ शो | एमडीएच स्कूल में पूरे सत्र बच्चों को नही मिल रहे कॉमर्स के शिक्षक, बच्चो की शिक्षा हो रही प्रभावित | हॉइ वॉल्टेज मुकाबला वार्ड नम्बर एक मे माहौल बदलने उतरी भाजपा | अध्यक्ष पद के लिए महत्वपूर्ण वार्ड क्र. 1, तीन पार्टी के उम्मीदवार तो एक निर्दलीय मैदान में | जिस भगवान ने हमें बेहिसाब दिया उसी को हम माला की गिनती से भजते हैं- पंडित शिव गुरु शर्मा | करप्शन पर चीन की सख्ती: पूर्व न्याय मंत्री को मौत की सजा | नगर में चाहुमुँखी विकास एवं स्वच्छता के साथ नपा को आदर्ष बनाने का वादा | 24 सितम्बर को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान अलीराजपुर व बुराहनपुर जिले में चुनावी सभाओं को करेंगे सम्बोधित | मां बच्चे की पहली गुरु होती है वह जैसा सिखाती है वैसा वह सीखता है- पंडित शिव गुरु शर्मा | कथा सुनने से धन नहीं आनंद मिलता है- पंडित शिवगुरु जी | कौन असली, कौन नकली...? |

जोड़-तोड़ करने वाले सरकारी डॉक्टर ने निजी अस्पताल संचालक से मिलकर दिखाई अपनी कारस्तानी, सर्व सुविधायुक्त महाजन अस्पताल से कोरोना सेन्टर हटाने से बढ़ी नाराजगी
Report By: राकेश साहु 21, May 2020 2 years ago

image

बैंक के प्रशिक्षण भवन में हैं सुविधाओ का अभाव

माही की गूंज, धार

कोरोना की इस महामारी  में प्रशासन भी मरीजों के साथ मजाक कर रहा है, तभी तो विगत दिनों शहर के सर्वसुविधायुक्त महाजन अस्पताल में बनाए गए कोरोना सेंटर से मरीज़ों को हटाकर मांडव रोड डीआरपी लाइन स्थित बैंक ऑफ इंडिया के प्रशिक्षण केंद्र के भवन में स्थानान्तरित कर दिया गया है। जिले में कोरोना संकट प्रारंभ होने के समय से ही महाजन अस्पताल को सेंटर बनाया गया, तथा इसमें कोरोना पॉजिटिव मरीजों को रखा गया था। यहां से अनेकों मरीज स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच भी गए, जिनकी फोटो अखबारों में छपवाकर स्वाथ्य महकमे और जनप्रतिनिधियों ने खूब वाहवाही भी लूटी थी, लेकिन ऐसी क्या मजबूरी आ गई कि, अब विगत दिवस महाजन अस्पताल से इस सेंटर को हटाकर मांडव रोड स्थित बैंक ऑफ इंडिया के प्रशिक्षण केंद्र में स्थानांतरित कर दिया है। इस भवन में ना तो किसी भी प्रकार की चिकित्सा सुविधाएं हैं, ना ही कोई कुशल चिकित्सक स्टाफ है। ऐसे में इस अदूरदर्शीपूर्ण निर्णय को लेकर चौतरफा सवाल उठ रहे हैं। जन चर्चा है कि, अस्पताल संचालकों की आपसी प्रतिस्पर्धा व सांठ-गांठ के चलते राजनैतिक दबाव में इस सेंटर को शिफ्ट किया गया है। आमजनों ने सेंटर को पुनः महाजन अस्पताल में स्थानांतरित करने की मांग की है, जिससे कि मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ ना हो सके।


नया सेंटर का भवन समस्याओ से ग्रस्त

बैंक ऑफ इंडिया के मांडव रोड स्थित प्रशिक्षण केंद्र के भवन में किसी भी प्रकार के चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध नहीं है, जो कि महाजन सेंटर में थीं। यदि किसी कोरोना पॉजिटिव मरीज की अचानक तबीयत खराब हो जाए तो ऐसे में उसको चिकित्सक की एवं वेंटिलेटर की जरूरत पड़ेगी। जब तक मरीज को महाजन अस्पताल या शहर के किसी अन्य अस्पताल या सरकारी अस्पताल में ले जाएंगे तब तक मरीज रास्ते में ही दम तोड़ देगा। ऐसे में यहां भर्ती मरीजों के साथ क्रूर मजाक किया गया है। वहीं अस्पताल प्रशासन इसको सामान्य प्रोटोकॉल की प्रक्रिया बता रहा है।


पाटीदार हॉस्पिटल से भी हटाया सेंटर

इधर पाटीदार अस्पताल से भी कोरोना मरीजों के लिए बनाए गए आइसोलेशन सेंटर को भी धरावरा स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका छात्रावास के भवन में शिफ्ट कर दिया गया है, जहां भी सुविधाएं ना के बराबर है, औऱ यहाँ के  क्वारंटाइन व्यक्तियो को ऐसी भीषण गर्मी में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।


शिफ्ट के पीछे की कहानी

महाजन अस्पताल में कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ों के इलाज हेतु सेंटर बनाए जाने से सामान्य मरीजों की भर्ती और ओपीडी चालू नहीं हो पा रही थी। ऐसे में इन निजी अस्पतालों के संचालको की कमाई रुकी हुई थी। इस कारण से इन्होंने येन केन प्रकारेण अस्पताल प्रशासन से साँठ-गाँठ कर अपने यहां से सेंटर को हटवा दिया। कोराना सेंटर बनाए जाने के पहले दिन से ही इन निजी अस्पतालों के संचालक सेंटर बनाए जाने के पक्ष में नहीं थे, और लगातार सेंटर को हटाने के लिए हाथ पैर मार रहे थे। 

       सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार सरकारी जिला अस्पताल में कार्यरत एक डॉक्टर जो कि, हमेशा जोड़-तोड़ में माहिर है तथा दलाली का काम ही करता है। उसकी इन सेंटरों को हटवाने में मध्यस्थता है। आमजनों ने कोरोना संकट को देखते हुए इन्हीं सुविधायुक्त निजी अस्पतालों को मरीजो की जानमाल की रक्षा के लिए पुनः सेंटर बनाए जाने की मांग की है।






माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |