Wednesday, 28 ,September 2022
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

आज रात होगी मतदाताओ रिझाने की अंतिम कोशिश, वार्डो के चुनाव में कोई नही पहुँच पा रहा अंतिम परिणाम तक | थाना प्रभारी सजंय रावत को मुख्यमंत्री की सभा की व्यवस्था संभालना पड़ा भारी | अंतिम दिन बड़ी संख्या में भागवत कथा श्रवण करने पहुँचे भक्त | शांति समिति की बैठक सम्पन्न | सहायक सचिव के पिता की जहर पीने से हुई मौत | चुनावी दौरे पर आए सीएम से पंचाल समाज ने लगाई गुहार | सीएम चौहान ने भाजपा पार्षद उम्मीदवारों के लिए चुनावी सभा को किया संबोधित | जिले में पहुंचे सीएम शिवराज सिंह चौहान ने जन सेवा अभियान में हिस्सा लेने के बाद जिला मुख्यालय में की चुनावी सभा | चुनाव प्रचार के अंतिम दिन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री जनसेवा शिविर में नहीं जाकर जनता से मांगेंगे माफी या अलीराजपुर की चुनावी सभा को करेंगे स्थगित...? | कैलाश विजयवर्गीय ने भाजपा के पक्ष में किया रोड़ शो | एमडीएच स्कूल में पूरे सत्र बच्चों को नही मिल रहे कॉमर्स के शिक्षक, बच्चो की शिक्षा हो रही प्रभावित | हॉइ वॉल्टेज मुकाबला वार्ड नम्बर एक मे माहौल बदलने उतरी भाजपा | अध्यक्ष पद के लिए महत्वपूर्ण वार्ड क्र. 1, तीन पार्टी के उम्मीदवार तो एक निर्दलीय मैदान में | जिस भगवान ने हमें बेहिसाब दिया उसी को हम माला की गिनती से भजते हैं- पंडित शिव गुरु शर्मा | करप्शन पर चीन की सख्ती: पूर्व न्याय मंत्री को मौत की सजा | नगर में चाहुमुँखी विकास एवं स्वच्छता के साथ नपा को आदर्ष बनाने का वादा | 24 सितम्बर को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान अलीराजपुर व बुराहनपुर जिले में चुनावी सभाओं को करेंगे सम्बोधित | मां बच्चे की पहली गुरु होती है वह जैसा सिखाती है वैसा वह सीखता है- पंडित शिव गुरु शर्मा | कथा सुनने से धन नहीं आनंद मिलता है- पंडित शिवगुरु जी | कौन असली, कौन नकली...? |

अतिथि शिक्षक है, लेकिन रोज बच्चों को पहाड़ से लेकर पहुंचती है अपने स्कूल
18, Dec 2021 9 months ago

image

माही की गूंज, बड़वानी।
        आज के समय में शासकीय शिक्षको को लेकर समाज में बड़ी नकारात्मक खबर चलती है। ऐसा नहीं कि सभी शिक्षक ऐसे हो, पर गेहूॅ के साथ धुन तो पिसता ही है। ऐसे में यदि कोई पहाड़ों के बीच से उतर कर विद्यार्थियों के साथ पैदल चलकर 3 किलोमीटर दूर अपने स्कूल पहुंचे और पढ़ाई करवाए, कक्षा हर समय भरी हो, तो उसे आप क्या कहेंगे। यदि यह महिला शिक्षिका हो उस पर अतिथि शिक्षिका हो, तो फिर आपका अतिथि शिक्षको के प्रति नकारात्मक सोच अवश्य बदल जाएगी। 
    यदि आप सेमलेट जा रहे है और साढ़े  10 बजे के लगभग आपकी गाड़ी गोलगाॅव क्रास कर रही है तो मार्ग पर एक अतिथि शिक्षिका 6-7 बच्चों के पीछे-पीछे चलते हुए दिख जाएगी। यह है श्रीमती सीमा सस्ते जो पहाड़ के उपर रहती है और अपने फल्या के 6-7 बच्चों को लेकर 10 बजे पहाड़ से उतरना प्रारंभ कर, लगभग 3 किलोमीटर सड़क पर चलते हुए अपने स्कूल प्राथमिक विद्यालय पहुंचती है। और शाम को पुनः इसी प्रकार बच्चों को लेकर पहाड़ चढ़ती है। 
    शिक्षिका की इस नियमितता और कर्तव्य परायणता के कारण उनकी कक्षा में हमेशा विद्यार्थियो की संख्या शत-प्रतिशत के लगभग होती है। कक्षा की हालत उतनी अच्छी तो नही (शहरों के समान साधन सम्पन्न) किन्तु विद्यार्थियों की हालत (साफ-सफाई और शैक्षणिक योग्यता) शहरों के स्कूलों से बेहतर नहीं तो कम भी नही है।
     श्रीमती सीमा सस्ते की इस कर्तव्य निष्ठा से अभिभूत कलेक्टर शिवराजसिंह वर्मा ने 26 जनवरी के राष्ट्रीय पर्व पर इस शिक्षिका को मुख्य अतिथि के हाथों सम्मानित कराने की घोषणा अभी से कर दी है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |