Monday, 16 ,May 2022
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

प्रोफेसर व उनके परिवार को मिली जान से मारने की धमकी | पहले जिलेवासियो को समस्याओं से निज़ात दिलाकर मुलभुत सुविधाएं उपलब्ध कराए, फिर मनाए गौरव दिवस मनाए- पूर्व जिलाध्यक्ष पटेल | गामड़ी पंचायत के रोजगार सहायक पर लाखों के भ्रष्टाचार का लगाया ग्रामीणों ने आरोप | भायजुमो मंडल के नवीन पदाधिकारी और सदस्यों का जिला कार्यालय पर किया स्वागत | मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा और महापूर्णाहूति के साथ हुआ विशाल भंडारे का आयोजन | सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बैकफुट पर सरकार | स्वास्थ्य विभाग की महिला कर्मचारी के जीपीएफ खाते से ढाई लाख निकाले | भगवान की स्थापना के बाद होगा भंडारे का आयोजन | ट्राले की भिडंत में युवक की मौत | बढ़ते पारे में चोरों का कहर... चोरो ने दिनदहाड़े ताले चटकाए | क्षेत्र में हिंदुत्व को जाग्रत करने वाले स्व. रुस्तम चरपोटा की प्रतिमा होगी स्थापित | माही धाम पर तीन दिवसीय श्रीराम मारुति यज्ञ और प्राण प्रतिष्ठा का आयोजन सम्पन्न | फर्जी अंकसूची लगा कर हासिल कर ली नौकरी, महिला अभ्यर्थी ने दर्ज करवाई शिकायत | लक्ष्मी उत्सव मनाने के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओ ने पंचायत भवन खोलने के लिए कहा तो रोजगार सहायक ने की गाली गलौच | धारा 144 के लागू होते हुए निकली रैली, 6 नामजद सहित अन्य पर मामला दर्ज | कॉलेज चलो अभियान अंतर्गत विद्यार्थियों को दी नई शिक्षा नीति की जानकारी | ओबीसी आरक्षण के बिना होंगे पंचायत चुनाव- सुप्रीम कोर्ट | ब्रदर प्रेम मुनिया का पावन पुरोहित अभिषेक सम्पन्न | हर्षोल्लास के साथ मनाया मां मरियम का पर्व | स्व. गौर सिंह वसुनिया की प्रथम पुण्यतथि पर किया फल वितरण |

एनआरसी केन्द्र में उपचार और कॉउंसलिंग सुधरी मासूम संतोष जिंदगी
01, Mar 2021 1 year ago

image

माही की गूंज, बड़वानी

    कौन सी माॅ होगी जो अपने 15 माह के पुत्र के मुस्कुराने और खेलने पर खुश नही होगी। यही दशा ग्राम रोसर की श्रीमती पार्वती बाई और उनके पति सकरिया की है। जो अब अपने डेढ़ वर्षीय पुत्र के मुस्कुराने पर अत्यंत प्रसन्न है।  

    5 माह पूर्व श्रीमती पार्वतीबाई अपने पुत्र मास्टर संतोष की दशा और गुमसुम रहने पर चिंतित रहती थी। उसे जब आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने बताया कि, उसके पुत्र की यह दशा इसलिए है, क्योकि उसका वजन उसकी आयु अनुसार कम है। जिसके लिए उसे 14 दिनों के लिए एनआरसी केन्द्र में भर्ती कर उपचार करवाना अत्यंत जरूरी हैं । इसके लिए उन्हे अपने पुत्र को लेकर पाटी के एनआरसी केन्द्र में भर्ती होना होगा, जहां उसे प्रतिदिन मजदूरी की न्यूनतम राशि मिलेगी वही उसके पुत्र का ईलाज के साथ-साथ खाना-पिनारहना सभी निःशुल्क रहेगा। 

    इस पर श्रीमती पार्वतीबाई अपने पुत्र को लेकर एनआरसी केन्द्र पाटी में भर्ती हुई उस वक्त उनके पुत्र को वजन 4 किलो 900 ग्राम था। केन्द्र में 14 दिन तक सतत् माता की काउंसलिंग और पुत्र के उपचार से जब उसकी स्थिति सुधरी तो माता को अपने पुत्र के साथ घर पर जाने और इसी प्रकार के प्रयास जारी रखने की हिदायत के साथ रवाना किया गया। 

    घर पहुंचने पर श्रीमती पार्वतीबाई अपने पति सकरिया के साथ मजदूरी करने के दौरान भी अपने पुत्र को समय-समय पर भोजन कराने के प्रति सजग रही। जिसका परिणाम यह रहा कि आज मास्टर संतोष का वजन 6 किलों से उपर पहुंच गया है। जिसके कारण अब वह सामान्य बच्चों के समान प्रतिक्रिया करने ओर देने लगा है। जिससे उसके पालक की खुशी भी अब देखते बनती है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |