Saturday, 25 ,May 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

पांच दिवसी नानी बाई के मायरे की कथा में पधारे कई श्रद्धांलू | जिन शासन का मनाया 2580वां स्थापना दिवस | ग्रामीण अंचलों में बनी प्रधानमंत्री ग्राम सड़क पर बेखोफ दौड़ रहे ओवरलोड डम्फर, जिम्मेदार नहीं कर रहे कोई कार्रवाई | वरिष्ठ नागरिक पेंशनर्स एसोसिएशन की बैठक का हुआ आयोजन | सांसद की माताजी का निधन, भाजपा में शोक की लहर | श्रीमद् भागवत कथा के चौथे दिन भजनों पर थिरके भक्त, बही भागवत गंगा | लोकसभा चुनाव जोबट विधानसभा क्षेत्र के ग्राम आम्बुआ में शांति पूर्वक संपन्न | चौथे चरण का मतदान सम्पन्न, सैलाना विधानसभा में सबसे ज्यादा मतदान | ग्रीष्मकालीन जैन आवासीय धार्मिक संस्कार शिविर का आयोजन 14 से 19 को पेटलावद में | गुरुदेव की निश्रा में 300 वर्षीतप आराधकों ने किए पारणें | सरपंच पति के साथ 6 आरोपीयो के विरुद्ध 4 व्यक्तियों की हत्या करने का मामला हुआ दर्ज | कांग्रेस का हूं कांग्रेस का रहूंगा कहने वाले सरपंच साहब भाजपा की भेंट चढ़े, उपसरपंच ने भी थामा भाजपा का दामन | पुलिस ने शांतिपूर्ण मतदान के लिए निकाला फ्लैग मार्च | पुलिस ने निकाला फ्लेग मार्च | 13 मई को संपन्न होने जा रहे चुनाव में शांति एवं सुरक्षा व्यवस्था हेतु सेना का फ्लैग मार्च | एक बार फिर विक्रांत भूरिया ने प्रेसवार्ता कर उधेड़ी प्रदेश वनमंत्री नागरसिंह व भाजपा लोकसभा प्रत्याशी अनिता चौहान की बखिया | निष्पक्ष रूप से चुनाव करवाने का दावा करने वाली प्रशासन ध्यान दें शराब दुकान पर होने वाली भीड़ पर | पहला चुनाव बनाम अंतिम चुनाव, सहानुभूति लहर या महिला सशक्तिकरण...? | देश में राजनीतिक दलों की स्थिति मतलब हमाम में सब नंगे | गुजरात मॉडल की घोषणा टाय-टाय फिस्स |

जैसे गंदा कपड़ा साबुन से धुलता है वैसे ही भागवत कथा से मन धुलता है- पंडित अमित शास्त्री
02, Oct 2023 7 months ago

image

माही की गूंज, आम्बुआ।

          भागवत कथा मनुष्य के जीवन को स्वच्छ तथा साफ करती है मन में जमा विभिन्न प्रकार का मेल कथा से वैसे ही साफ हो जाता है। जिस तरह गंदा कपड़ा साबुन से साफ हो जाता है भागवत कथा भी मन में भरा मैल साफ कर देती है। भागवत कथा मनुष्य को भवसागर से वैसे ही पार कर देती है जैसे लोहे की कील लकड़ी में लगकर पार हो जाती है भागवत परम मोक्ष प्रदान करती है।

          उक्त वक्तव्य आम्बुआ में शंकर मंदिर प्रांगण में राठौड़ परिवार द्वारा आयोजित भागवत कथा के प्रथम दिवस व्यास पीठ से पंडित अमित शास्त्री ने व्यक्त किये। उन्होंने आगे भक्ति का वर्णन करते हुए बताएं की भक्ति के दो बेटे ज्ञान और वैराग्य मां भक्ति जवान थी  जब की बेटे बूढ़े हो गए थे। भक्ति ज्ञान वैराग्य की कथा के साथ भागवत का महत्व बताया कथा के पूर्व  जजमान परिवार ने भागवत कथा की स्थापना पूजा आरती की।

        शास्त्री जी ने कथा में बताया कि, मन ऐसा है जो कि मनुष्य को मोक्ष दिलाता है जिसके बाद उन्होंने आत्मदेव की कथा सुनाई जिसके घर संतान नहीं थी। वह दुखी होकर घर से बाहर निकल कर मरने चला रास्ते में संत मिले जिन्होंने समझाया तथा उसे एक फल दिया। कहा पत्नी को खिलाना संतान होगी फल उसने पत्नी को दिया उसने गाय को खिला दिया अपनी बहिन के बच्चे को रख लिया जिसका नाम धुंधकारी रखा। फल खाने से गाय को भी बच्चा हुआ जिसका नाम गोकर्ण रखा गया। धुंधकारी व्याभिचारी हो गया तथा मरने के बाद प्रेत बना जिसका उद्धार उसके भाई गोकर्ण ने भागवत कथा सुना कर किया 7 दिनों की कथा के बाद जब धुंधकारी का उद्धार हुआ तो वह गोलोक गया। भी पापी होते हैं उनका उद्धार भागवत भजन से हो जाता।




माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |