Friday, 19 ,July 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

20 माह बाद भी अपने पुनरुद्धार की बाट जोह रही है सड़क | जिला पत्रकार संघ की जिला कार्यकारिणी का हुआ स्नेह मिलन समारोह | पुलिस ने 8 घण्टे के भीतर किया महिला की निर्मम हत्या का खुलासा | शिप्रा नदी में हाथ-पैर और मुँह बंधी लाश मिली | पांच मोटरसाइकिल के साथ चोर गिरफ्तार | जन्मप्रमाण पत्र के अभाव में कई बच्चो का भविष्य अंधकार में | सुंदराबाद में होगा महिला एवं बाल हितेषी पंचायत का गठन | अणु पब्लिक स्कूल में अलंकरण समारोह की धूम | अमरनाथ यात्रा के लिए रवाना हुए तीन युवा | कृषि विभाग और पुलिस, सोयाबीन के वाहन को लेकर आमने-सामने | 'एक पेड़ मां के नाम' अभियान को लेकर किए पौधरोपण | एक पेड़ मां के नाम अभियान के तहत पुलिस विभाग ने किया पौधरोपण | ठंड-गर्मी का मौसम निकला अब कीचड़ में बैठेंगे सब्जी विक्रेता, सड़क किनारे बैठकर दुर्घटना को दे रहे न्योता | धरती हमारी माँ है, पौध रोपण कर सभी करे इसकी सेवा- न्यायाधीश श्री दिवाकर | धरती आसमां को जयकारों से गुंजायमान करते हुए अणुवत्स श्री संयतमुनिजी ठाणा 4 का थांदला में हुआ भव्य मंगल प्रवेश | पुलिस ने 24 घंटे के अंदर पकड़ा मोबाईल चोर | समरथमल मांडोत मंडी अध्यक्ष नियुक्त | जनपद पंचायत मुख्यालय पर हुआ सम्पूर्णता अभियान का शुभारंभ | आगामी त्यौहार मोहर्रम के सबंध में हुई एसडीएम कार्यालय में आयोजित हुई बैठक | सफल हुई अंतिम आराधन, कमलाबाई पीचा का संथारा सिझा |

सफल हुई अंतिम आराधन, कमलाबाई पीचा का संथारा सिझा
07, Jul 2024 1 week ago

image

अंतिम दर्शन के बाद संघ ने निकाली डोल परिजनों ने दी मुखाग्नि

माही की गूंज, थांदला। 

           करोड़ो जन्म के संचित पुण्य व जीवन भर की तपस्या का फल होता है अंतिम समय में साधक का अंतिम मनोरथ का सफल हो जाना। जैन दर्शन में पंडित मरण (संथारा) युक्त मृत्यु को महोत्सव माना गया है ऐसे साधक की मुक्ति का मार्ग अल्प भव का होता है। थांदला निवासी विमल कुमार पीचा के माताजी प्रतीक पीचा के दादीजी हितिशा, दीर्घ के परदादीजी धर्मनिष्ठ सुश्राविका श्रीमती कमलाबाई भोगीलाल पीचा (90 वर्ष) को थांदला विराजित सरलमना साध्वी पुज्या श्री निखिलशीलाजी म. सा. द्वारा भवचरिम प्रत्याख्यान के कुछ ही समय बाद चारों आहार त्याग सहित संथारा के प्रत्याख्यान करवाए। उनका संथारा समाचार सुनकर श्वेताम्बर समाज में उनके निवास पर उनके अंतिम दर्शन का तांता लग गया। हर कोई उनके अंतिम दर्शन कर उन्हें नवकार मंत्र, अरिहंत शरणम पवज्जामि, सिद्धे शरणम पवज्जामि, साधु शरणम पवज्जामि, केवली पणात्तम धम्मम शरणम पवज्जामि के द्वारा उनके शाश्वस्त सुखों की कामना करते हुए  धर्म आराधना में सहयोगी बन रहा था। उनका संथारा 1:50 पर पूर्ण हुआ इसके बाद उनकी अंतिम यात्रा डोल के रूप में निकाली गई जिसमें सकल संघ के वरिष्ठ जनों ने शाल माला पहनाकर उनके गुण अनुमोदन कर श्रद्धांजलि अर्पित की वही परिजनों ने मुखाग्नि दी।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |