Friday, 19 ,July 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

20 माह बाद भी अपने पुनरुद्धार की बाट जोह रही है सड़क | जिला पत्रकार संघ की जिला कार्यकारिणी का हुआ स्नेह मिलन समारोह | पुलिस ने 8 घण्टे के भीतर किया महिला की निर्मम हत्या का खुलासा | शिप्रा नदी में हाथ-पैर और मुँह बंधी लाश मिली | पांच मोटरसाइकिल के साथ चोर गिरफ्तार | जन्मप्रमाण पत्र के अभाव में कई बच्चो का भविष्य अंधकार में | सुंदराबाद में होगा महिला एवं बाल हितेषी पंचायत का गठन | अणु पब्लिक स्कूल में अलंकरण समारोह की धूम | अमरनाथ यात्रा के लिए रवाना हुए तीन युवा | कृषि विभाग और पुलिस, सोयाबीन के वाहन को लेकर आमने-सामने | 'एक पेड़ मां के नाम' अभियान को लेकर किए पौधरोपण | एक पेड़ मां के नाम अभियान के तहत पुलिस विभाग ने किया पौधरोपण | ठंड-गर्मी का मौसम निकला अब कीचड़ में बैठेंगे सब्जी विक्रेता, सड़क किनारे बैठकर दुर्घटना को दे रहे न्योता | धरती हमारी माँ है, पौध रोपण कर सभी करे इसकी सेवा- न्यायाधीश श्री दिवाकर | धरती आसमां को जयकारों से गुंजायमान करते हुए अणुवत्स श्री संयतमुनिजी ठाणा 4 का थांदला में हुआ भव्य मंगल प्रवेश | पुलिस ने 24 घंटे के अंदर पकड़ा मोबाईल चोर | समरथमल मांडोत मंडी अध्यक्ष नियुक्त | जनपद पंचायत मुख्यालय पर हुआ सम्पूर्णता अभियान का शुभारंभ | आगामी त्यौहार मोहर्रम के सबंध में हुई एसडीएम कार्यालय में आयोजित हुई बैठक | सफल हुई अंतिम आराधन, कमलाबाई पीचा का संथारा सिझा |

महंगी सब्जियों ने बिगाड़ा मुँह का स्वाद, बारिश के कारण सभी सब्जियां हुई महंगी
06, Jul 2024 1 week ago

image

माही की गूंज, बड़नगर/रुनीजा।

           मानसून की बारिश क्षुरुआत होते ही सब्जियों के भाव आसमान छू रहे। बढ़ते सब्जियों के दाम से अमीर के साथ गरीब सबके मुँह का स्वाद बिगड़ रहा है। आम तौर पर 10 से 15 रुपए किलो बिकने वाला आलू 40, 45 रुपए किलो हो गया है। हरी सब्जियां तो आसमान छु रही है गिलकी 80 रुपए किलो, पालक 40 रुपए किलो, टमाटर भी लाल हो गया है। 20 से 25 रुपए किलो बिकने वाला टमाटर 100 रुपए किलो हो गया है। मिर्ची ने भी आँख में पानी ला दिया है, जो 100 रुपए किलो बिक रही है। कुल मिलाकर सभी सब्जियां महंगी हो गई है व रसोइ का बजट भी बिगाड़ रही है। ये ही नही अब फलो का राजा आम भी महंगाई के चलते आम लोगो से दूर होता जा रहा है। सब्जियां महंगी होने का क्या कारण है, इस संदर्भ माधवपुरा के कृषक सत्यनारायण नागर से चर्चा की गई तो नागर ने बताया कि, अधिकतर किसानों ने गर्मियों में सब्जियां लगाई थी। ताकि अच्छे भाव मिल सके लेकिन गर्मियों में पर्याप्त सब्जी की उत्पादन होने के कारण भाव कम रहा। पर जैसे ही मानसून की बारिश हुई अत्यधिक बारिश के कारण सब्जियों झड़ गई एवं एवं बारिश के कारण परागण भी कम हुआ। जिसकी वजह से सब्जियों का उत्पादन कम हो गया है और बाजार में सब्जियों की मांग अधिक हो रही है। इस कारण सब्जियों के भाव आसमान को छूने लग गए है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |