Friday, 23 ,February 2024
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

नरेन्द्र कुमार का निधन | ग्राम सभा मे पेसा एक्ट की दी जानकारी | वाहन एवं लाखों की अवैध शराब के साथ एक आरोपी गिरफ्तार | बिशप के प्रथम आगमन पर भव्य स्वागत | खरीफ में पैदा होने वाली फसले अब रबी में भी | दुकान नीलामी को लेकर दर्ज करवाई गई आपत्ति, हाईकोर्ट के आदेश की अनदेखी का आरोप | कांग्रेसी नेता ने करंट से पीड़ित परिजनों को दी सहायता राशि | मेनिंगोकोकल वैक्सीन की हुई शुरुआत, बच्चों को दी वैक्सीन की खुराक | निःशुल्क मच्छरदानी का किया वितरण | राज्यपाल की उपस्थिति में आयोजित हुआ स्वास्थ्य शिविर | 12वीं बोर्ड परीक्षा में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले 7 हजार 800 विद्यार्थियों को मिली स्कूटी | सिकलीगर परिवारों के लिए स्वरोजगार प्रशिक्षण | खाद्य पदार्थों में मिलावट की रोकथाम के लिए मुख्य सचिव ने ली बैठक | अमानक स्तर का घी तैयार करने वाली फर्म के संचालक के विरुद्ध एफआईआर दर्ज | विद्या से धारित मां सरस्वती देवी ही समस्त सद्गुणों की स्त्रोत- प्राचार्य शरद क्षीरसागर | शांतिलाल श्रीमाल के निधन के बाद परिवार वालों ने नेत्रदान का लिया साहसी निर्णय | भारत भ्रमण पर निकले युवा का किया स्वागत | संदिग्ध परिस्थितियों में मिले शव के बाद हत्या की आशंका को लेकर ग्रामीण थाने पर पहुँचे | तीस वर्षिय युवक की लाश कूप में मिलने से क्षैत्र में फैली सनसनी | 2013 से लेकर 2018 तक विधायक रहे शांतिलाल बिलवाल का निधन |

माफियाओं से निपटना बड़ी चुनौती होगी नई सरकार के लिए...
30, Nov 2023 2 months ago

image


माही की गूंज, संजय भटेवरा।

    झाबुआ। मध्य प्रदेश शांति का टापू है लेकिन पिछले कुछ वर्षों में यहां माफियाओं की संख्या में अप्रत्याशित इजाफा हुआ है चाहे वह रेत माफिया हो, शराब माफिया हो, भू माफिया हो, खनन माफिया हो या फिर खनिज माफिया। यह भी तय है कि, इन माफियाओं का इजाफा इनके होसले बुलन्द प्रशासनिक नुमानिन्दो व राजनितिक नेताओं तथा जनप्रतिनिधिओं के सरंक्षण के साथ ही हुए है और अब इनके हौसले इतने बुलंद है कि, वे प्रशासन के खिलाफ भी मोर्चा खोल  देते हैं। यही नहीं इन बैलगाम माफियाओं के होसले इतने बुलन्द हो गये है कि मौका आने पर वे बेरहमी  से पेश आकर किसी की जान तक ले लेते हंै।

    हाल ही में शहडोल जिले के ब्यौहरी में रेत माफियाओं द्वारा पटवारी प्रसन्न सिंह की ट्रैक्टर से कुचलकर हत्या कर दी। जिसके बाद फिर प्रदेश में कानून व्यवस्था के नाम पर माफिया राज होने की बात सामने आई है।

    जब मामला हत्या जैसे जघन्य अपराध से जुड़ा हो वो भी सरकारी कर्मचारी का ता,े सरकार पर उंगली उठना स्वाभाविक ही है। पटवारी प्रसन्न सिंह बघेल आर्मी में साढ़े 16 वर्ष  नौकरी करने के बाद रिटायर्ड हुए तथा पिछले कुछ दिनों से लगातार राजस्व टीम के साथ वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में रेत माफियाओ के खिलाफ मोर्चा खोले हुए थे। ऐसे में रेत माफियाओं ने बड़ी बेरहमी से उनका सर ट्रैक्टर से कुचलकर हत्या कर दी। मध्य प्रदेश में इस तरह हत्या का यह पहला मामला नहीं है इसके पूर्व भी 2015 में मुरैना के कांस्टेबल धर्मेंद्र चैहान, 2016 में ग्वालियर के बानमोर में फॉरेस्ट गार्ड नरेंद्र शर्मा हत्या तथा 2018 में छतरपुर के बिजावर में अभिषेक तोमर को अवैध खनन के खिलाफ कार्यवाही में ,ट्रैक्टर से कुचलने का प्रयास किया जा चुका है आदि ऐसे कई मामले मध्य प्रदेश में हो चुके है।

    यह कहानी है रेत माफियाओं की जिन्होंने ईमानदारी से कार्य करते हुए सरकारी कर्मचारियों को मौत के घाट उतार दिया। इसके अलावा भी प्रदेश में कई तरह के माफिया सक्रिय है जिससे आम जनता खासी परेशान है लेकिन इन माफियाओं की दादागिरी के चलते अपनी पर बीत रही हकीकत को बयां नहीं कर सकते। प्रदेश की भांति ही आदिवासी बाहुल्य इस जिले में अवैध शराब माफियाओं, भू-माफियाओं और खनन माफियाओ का आतंक है जिससे सभी परेशान तो है लेकिन सख्त कार्यवाही करने की हिम्मत नहीं जुटा पाते हैं।  प्रदेश को माफिया मुक्त हेतु  नई सरकार को इन माफियाओं से निपटना एक बड़ी चुनौती साबित होगा।



माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |