Monday, 27 ,June 2022
RNI No. MPHIN/2018/76422
: mahikigunj@gmail.com
Contact Info

HeadLines

नए चेहरे को मिला सरपंच पद, जनपद व जिला पंचायत में कौन रहा आगे | शांतिपूर्ण हुआ त्रिस्तरीय पंचायत में मतदान | फर्जी तरीके से दूसरी बार वोटिंग करने से पहले पकड़े गए युवा | तीर्थ यात्रिओ का किया स्वागत | पंचायत त्रिकोणीय मुकाबला चरम पर | वाहन दुकानों के सामने रखने से परेशान हो रहे दुकानदार व ग्राहक | निरोगी काया स्वस्थ जीवन के लिए मूलमंत्र- प्राचार्य डॉ. मेहता | जीआर इंफ्रा प्रोजेक्ट ने मनाया अंतराष्ट्रीय योग दिवस | चंदनवाड़ी विशाल भंडारें के लिए भोलें भण्डारा परिवार का सामग्री से भरा ट्रक हुआ रवाना | कक्षा 12 वी की पूरक परीक्षा देने आया फर्जी छात्र | बारात में जाने से पहले दूल्हा देने आया पूरक परीक्षा | जनमत से बने नीति, योजना और कानून | पार्षद के चुनाव के लिए 15 वार्डों में कुल 93 उम्मीदवारों ने किया नामांकन दाखिल | चालीस कार्यकर्ता भी जमा नही हुए सांसद गुमानसिंह डामोर के नाम पर | आपस मे भिड़ी मोटरसाइकिल, दो लोग गम्भीर घायल, आधे घन्टे बाद पहुँची एम्बुलेंस | कलेक्टर ने आगामी चुनाव को लेकर मतदान केंद्रों का किया दौरा | वर्षीतप आराधक रवि लोढ़ा का मनाया पारणा महोत्सव | ग्राम में मनाया मतदाता जागरूक दिवस | लक्की हत्याकांड को लेकर पंचाल समाज में आक्रोश | झाबुआ के बाद रतलाम में भी उठा खेल सामग्री क्रय में, अनियमितता का मामला |

वर्षीतप आराधक रवि लोढ़ा का मनाया पारणा महोत्सव
16, Jun 2022 1 week ago

image

माही की गूंज, थांदला।

        तपस्या प्रधान जैन धर्म में वर्षीतप को प्रथम तप के रूप में प्रधानता दी जाती है। आदि तीर्थंकर भगवान ऋषभदेवजी से जुड़ा होने से इसकी प्राचीनता भी सदियों पुरानी है। जैन समाज में आज भी अनेक श्रावक श्राविकाओं का बड़ा वर्ग न केवल तप से अपितु ज्ञान, दर्शन व चारित्र आदि विभिन्न प्रकार से भी वर्षीतप की आराधना करने लगा है। इन्ही में सबसे कठिन है प्रचलित एकान्तर उपवास से वर्षीतप की आराधना जो लगातार 13 माह (400 दिन) तक निरन्तर एक दिन छोड़कर केवल गर्म अथवा राख युक्त धोवन पानी के दम पर निराहार रह कर की जाती है। श्वेताम्बर स्थानकवासी जैन समाज के श्री ललित जैन नवयुवक मंडल के अध्यक्ष युवा तरुणाई तपस्वी रवि लोढ़ा ने वर्ष 2021 में अक्षय तृतीया से अपने वर्षीतप की आराधना प्रारम्भ की थी जो आज पूर्ण हो गई। 400 दिन तक एकान्तर निराहार उपवास की आराधना का पारणा महोत्सव लोढ़ा परिवार द्वारा निजी स्थान पर मनाया गया जिसमें थांदला श्रीसंघ, ललित जैन नवयुवक मंडल, आईजा परिवार, दिगम्बर समाज, तेरापंथ समाज, श्वेतांबर मूर्तिपूजक समाज, वागरेचा परिवार, गादिया परिवार, व्होरा परिवार, नागर समाज, कोठारी परिवार, अरोड़ा परिवार व जय जिनेन्द्र ग्रुप आदि के इष्ट मित्र परिजनों ने उनका अभिनन्दन कर पारणा कराया। 

        उल्लेखनीय है कि, रवि लोढ़ा ने इसके पूर्व भी मासक्षमण की दीर्घ तपस्या करते हुए आचार्य के गुण को समर्पित 36 उपवास किये वही करीब 11 बार अट्ठाई तप भी कर चुके है।


माही की गूंज समाचार पत्र एवं न्यूज़ पोर्टल की एजेंसी, समाचार व विज्ञापन के लिए संपर्क करे... मो. 9589882798 |